Category Archives: Latest news

विशाल श्रावण महोत्सव 2017

दिनांक 09 जुलाई से 6 सितम्बर 2017
09 जुलाई- गुरु पूर्णिमा महोत्सव
10 जुलाई – विशाल शोभा यात्रा (10 am)
ध्वज आरोहण- 01 pm
प्रत्येक सोमवार परम्परागत जागरण एवम विशाल भक्ति संध्या 09:00 PM

शिव का बारहवां रुद्र अवतार है ‘घुश्मेश्वर’ ज्योतिर्लिंग

ssmlog

भगवान शंकर का बारहवां अवतार ‘घुश्मेश्वर के नाम से प्रसिद्ध है. घुश्मा के मृत पुत्र को जीवित करने के लिए अवतरित प्रभु शिव ही घुमेश्वर या घुश्मेश्वर के नाम से जाने जाते हैं. इसका स्थान द्वादश ज्योतिर्लिंगों में आता है.यह ज्योतिर्लिंग  ग्राम शिवाड जिला सवाई माधोपुर राजस्थान में व्यवस्थित है.

शिव पुराण के अनुसार भगवान शिव अपने भक्तों के कल्याण के लिए पूरी धरती पर जगह-जगह भ्रमण करते रहे हैं. अपने भक्तों की उपासना से अभिभोर होकर भगवान शिव ने उन्हें दर्शन दिया और अपने भक्तों के अनुरोध पर अपने अंश रूपी शिवलिंग के रूप में वहां सदा के लिए विराजमान हो गए.

शिवलिंग के रूप में भगवान शिव जिन-जिन स्थानों पर विराजमान हुए, उन्हें आज प्रसिद्ध तीर्थस्थलों के रूप में महत्व दिया जाता है. वैसे तो धरती पर असंख्य शिवलिंग स्थापित हैं लेकिन इनमें 12 शिवलिगों को ज्योतिर्लिंग का विशेष दर्जा प्राप्त है.

इन्हीं ज्योतिर्लिंगों में द्वादशवें ज्योतिर्लिंग का नाम ‘घुश्मेश्वर’ है. इन्हें ‘घृष्णेश्वर’ और ‘घुसृणेश्वर’ के नाम से भी जाना जाता है.

घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले के शिवाड गांव में  स्थित है ! शिवमहापुराण में घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग का वर्णन है. ज्योतिर्लिंग ‘घुश्मेश’ के समीप ही एक सरोवर भी है. जिसे शिवालय के नाम से जाना जाता है. कहा जाता है कि जो भी इस सरोवर का दर्शन करता है उसकी सभी इच्छाओं की पूर्ति होती है.

शिवपुराण में भी इसका वर्णन निम्न श्लोक में आता है –

सौराष्ट्रे सोमनाथं च श्री शैले मल्लिकार्जुनम | उज्जयिन्यां महाकालंओंकारं ममलेश्वरम || केदारं हिमवत्प्रष्ठे डाकिन्यां भीमशंकरम | वाराणस्यां च विश्वेशं त्रयम्बकं गोतमी तटे || वैधनाथं चितभूमौ नागेशं दारुकावने | सेतुबन्धे च रामेशं घुश्मेशं तु शिवालये ||
(शिव पुराण कोटि रूद्र संहिता 32-33)
कैसे पहुंचे
Direction & Map